हार्द्धिक स्वागत

मेरे निजी ब्लॉग "मेरी नन्ही उड़ान " पर आप सबका हार्द्धिक स्वागत है.

आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाओं की अभिलाषा है. ..हार्द्धिक आभार सहित...

आपका अपना - तन्वीर

Saturday, 8 March 2014

स्वर्णिम इतिहास (कविता-4)


शब्दों की चित्कारों में
की जाती हैं
आज
किसी-न-किसी
धर्म की तलाश ।
भरी जाती है गोद
धरती माँ की
उसकी ही सन्तानों के
नर-शिशु कंकालों से
और
ढो दी जाती है
आतंकवाद के कांधों पर
मानवता की लाश

पैदा कर दी गई
आज
चहुँ और
(भयाक्रांत करने हेतु)
युद्धों की विभीषिकाएँ 
धरती-पाताल हो या आकाश ।

अब कभी-कभी ही,
कहीं-कहीं ही,
सुनाई देते है,
आरती और अजानों के स्वर ।

शंखनाद की जगह
गुंजता है
चित्कारों का गुंजन
और
जलता दिखाई देता है
गिरजाघर में जलती
मोमबत्तीयों सा
हर शहर।

क्या यहीं होगा ?
कल हमारा स्वर्णिम इतिहास !!!
*******************
                                                                       " तन्वीर "

2 comments:

Popular Posts

जल बचाओ -जीवन बचाओ

जल बचाओ -जीवन बचाओ
जल बचाओ -जीवन बचाओ. बेटी बचाओ- भ्रूण हत्या पाप है.

आपको मेरा ये रचना संसार कैसा लगा ?

Total Pageviews